पत्रकारों को नीचा दिखाने के लिए चेक राष्ट्रपति ने अपनाया अजीबोगरीब तरीका

चेक गणराज्य के राष्ट्रपति मिलोस जेमान का पत्रकारों के साथ रिश्ता किसी से छिपा नहीं है. कई मौकों पर वह पत्रकारों के खिलाफ अपना रोष प्रकट कर चुके हैं.

चेक गणराज्य के राष्ट्रपति मिलोस जेमान ने विचित्र अंदाज में पत्रकारों को नीचा दिखाया. उन्होंने पत्रकारों पर ताना मारते हुए यह भी कहा , ‘‘आप सभी (पत्रकारों) को ‘‘ थोड़े बेवकूफ ’’ की तरह दिखाने का मुझे अफसोस है. ’’ 73 वर्षीय राष्ट्रपति ने एक अजीबोगरीब कार्यक्रम के दौरान लाल रंग के एक विशालकाय जांघिया को जलाकर पत्रकारों के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया.

चेक गणराज्य के राष्ट्रपति मिलोस जेमान का पत्रकारों के साथ रिश्ता किसी से छिपा नहीं है. कई मौकों पर वह पत्रकारों के खिलाफ अपना रोष प्रकट कर चुके हैं.  जेमान ने कल दोपहर अचानक एक संवाददाता सम्मेलन की घोषणा की , जिससे उनके संभावित इस्तीफे को लेकर अटकलें बढ़ गयी थीं. प्राग महल के बगीचे में सम्मेलन के लिये आये पत्रकारों से जेमान ने कहा , ‘‘उन पत्रकारों के प्रति मैं क्षमाप्रार्थी हूं, जिनकी अक्लमंदी को परखने का मैंने हर बार की तरह असफल कोशिश की. ’’

इस दौरान जेमान के साथ उनके प्रवक्ता , कई सहायक और दमकलकर्मी मौजूद थे. उनके कौतूहल को और बढ़ाते हुए जेमान ने इसके बाद दो दमकलकर्मियों की मदद से एक अग्निकुंड में लाल रंग के विशालकाय जांघिया को जलाया. उन्होंने घोषणा की , ‘‘राजनीति में अब खुद को ढंकने का समय खत्म हो गया. ’’ अपनी कार की ओर बढ़ते हुए उन्होंने कहा , ‘‘आप सभी (पत्रकारों) को ‘‘थोड़े बेवकूफ’’ की तरह दिखाने का मुझे अफसोस है. आप वाकई में इसके हकदार नहीं हैं. ’’

माना जाता है कि यह जांघिया वर्ष 2015 में राष्ट्रपति भवन के ऊपर एक खंभे में लगाये गये विशालकाय जांघिये से मिलता जुलता है , जिसे प्रदर्शनकारियों ने जेमान के खिलाफ अपना विरोध प्रकट करने के लिये झंडे के पोल पर लगा दिया था.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *